What is, is

Letters (Originals)

A letter by Osho to Swami Anand Maitreya, dated 12 November 1970, published in Dhai Aakhar Prem Ka (ढ़ाई आखर प्रेम का), as letter #41.

Letter to Maitreya

acharya rajneesh

27 C C   I   CHAMBERS    CHURCHGATE    BOMBAY   20 PHONE 293782

Dear Mathura Babu:

Love. Do not fight with the mind.
Because, fighting only strengthens the mind.
This way it expands it too.
And as such, there is never a win achievable by fighting with the mind.
It is also an easy formula for defeat.
He who fought with himself, lost.
Because a win is impossible in this way.
To fight with oneself is to divide one’s self into self-opposing sides.
And there is only the Self, which must fight from both the sides.
In this manner the life energy only become sick.
And also, schizophrenic.
No – do not fight; instead, accept yourself.
Agree to live with yourself.
What Is, Is.
Don’t run away from it.
Don’t even try to change it.
Live in it.
Live by being it.
And that’s when the life energy presents itself in its wholeness.
Healthy, consolidated, and powerful.
And that’s when transformation happens.
Like a shadow of healthy, undivided, and powerful life energy.
It is not an effort; it’s an Outcome.
It’s not an action, it’s a Happening.
It is God’s Grace.

Rajneesh’s Pranaam
12 /11/1970

Translation thanks to Sunil Shah

Hindi Original

acharya rajneesh

27 C C   I   CHAMBERS    CHURCHGATE    BOMBAY   20 PHONE 293782

प्रिय मथुरा बाबू,
प्रेम। मन से लड़े न।

क्योंकि, लड़ने से मन ही बढ़ता है।
वह विधि भी उसके विस्तार की ही है।
और फिर मन से लड़ने से जीत तो कभी होती ही नहीं है।
वह भी पराजय का ही सुगम सूत्र है।
जो स्वयं से लड़ा वह हारा।
क्योंकि, वैसे जीत असंभव है।
स्वयं से लड़ना स्वयं को स्व-विरोधी खंडों में विभाजित करना है।
और दोनों ओर से स्वयं को ही लड़ना पड़ता है।
ऐसे जीवन-ऊर्जा रुग्ण ही होती है।
और सीज़ोफ्रेनिक भी।
नहीं – लड़े नहीं, वरन् स्वयं की स्वीकारें।
स्वयं के साथ रहने को राजी हों।
जो है – है।
उससे भागें नहीं।
उसे बदलने कां प्रयास भी न करें।
उसमें जियें।
वही होकर जियें।
और तब जीवन-ऊर्जा अपनी अखंडता में प्रगट होती है।
स्वस्थ, समाहित, और सशक्त।
और फिर रूपांतरण घटित होता है।
स्वस्थ, अखंड और सशक्त जीवन -ऊर्जा की छाया की भांति।
वह प्रयास नहीं, परिणाम है।
वह कर्म नहीं, घटना है।
वह प्रभु-प्रसाद है।

रजनीश के प्रणाम
१२/११/१९७०

Transcription and photo of letter thanks to sannyas.wiki

Comments are closed.